Total Pageviews

Wednesday, June 15, 2011

कुछ आया !!!!

इस चित्र को देखकर जो भी ख्याल आपके मन में आए वो हमें बताएं | 
                       आखिर हम भी तो देखें की आप कहाँ तक
                                          सोच सकते हैं | 


सोचो सोचो

5 comments:

krati said...

सखी सैंयाँ तो खूब ही कमात हैं , महंगाई डायन खाए जात है |

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

लालच!
बहुत खूब!

ZEAL said...

कालाधन की कालाबाजारी।

क्रिएटिव मंच-Creative Manch said...

kya baat hai!

निवेदिता said...

सावधानी हटी दुर्घटना घटी ....))))))

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...